इतिहास कहता है कि कंस देवकी का सगा भाई नहीं था-

कंस हमारी पौराणिक कथाओ के सबसे बडे खलनायको में से एक है उसके पापकर्म इतने प्रबल, तथा अत्याचार अमानवीय थे। कि द्वापर काल उसके नाम से कांप गया था। अपनी ही बहन देवकी की सात संतानों की निर्मम हत्या कर उसने इतिहास में कंस मामा का नाम पाया । आज कोई भी मामा अपनी मर्यादा लांघता है तो उसका नाम भी कंस मामा ही रखा जाता है।
कंस वास्तव में अपनी बहन देवकी से बहुत स्नेह करता था। इतना स्नेह था कि उसने अपनी बहन की डाली अपने कंधो पर उठाई थी। तभी आकाशवाणी ने कंस को अपनी बहन के प्रति नफरत में डाल दिया। तथा उनके अत्याचारो की तुलना आप इतिहास में कर सकते है।
कंस कथाओ के अनुसार रानी पद्मावती व राजा उग्रसेन को पात्र था। तथा वह अपनी प्रजा के लिए यज्ञ करता था। रानी पद्मावती मायके जाने से वह गर्भवती हो गई और उसके दवकी पैदा हो गई इसलिए इतिहास मानता है कि देवकी कंस की सगी बहन नही थी।