राज्यसभा चुनाव कैसे पता चला कांग्रेस विधायकों ने दिए भाजपा को वोट जानें पुरी प्रक्रिया-

राज्यसभा की 3 सीटों के लिए चुनाव संम्पन्न हो गए। यहां भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस से 1 प्रत्याशी मैदान में था। भाजपा की ओर से राजनितिक सलाहकार अहमद पटेल मैदान में हैं। माना जा रहा है कि शाह और ईरानी की जीत तो तय है लेकिन राजपूत और पटेल में कांटे की टक्कर है। इन चुनावों की क्रॉस वोटिंग यानी दुसरे दल के प्रत्याशी को भी कई विधायक वोट देते है।
लेकिन यह पता चलता है यू ंतो सब जानते है कि राज्यसभा चुनाव में यह परिस्थिति नहीं होती लेकिन यह का्रॅस वोटिंग की है। बाद में साल 1954 की 23 अगस्त को संविधान सभा में निर्णय के बाद उपराष्ट्रपति को इसका पदेन सभापति तय किया गया।
सविधांन के अनुच्छेद 80 के अनुसार राज्यसभा में 250 सदस्य होते है। और इसमें राष्ट्रपति की ओर से इसमें 12 सदस्य मनोनीत होते है। तथा यह सब सविधांन की चौथी अनुसुची में लिखा राज्य के अनुसार आबादी में चुने जाते है।