जन्मदिन विशेषः 11 साल की उम्र में रेप और 15 साल की उम्र में गैंगरेप तब बनी फुलन देवी डकैत

फुलन देवी डकैत-जन्मदिन विशेषः 11 साल की उम्र में रेप और 15 साल की उम्र में गैंगरेप तब बनी फुलन देवी डकैत-फुलन देवी को 80 के दशक में सबसे खतरनाक डाकु माना जाता था। फुलन की कहानी सुनकर आज भी कुछ लोगों के रोंगटे खडे हो जाते है तो कुछ लोगों के तो आंसु निकल आते है। 10 अगस्त को 1963 को उतरप्रदेश के जलाउ जिले में जन्मी फुलन देवी का नाम हिन्दुस्तान के इतिहास से कभी मिट नही सकता, कुछ लोगो के लिए फुलन हिम्मत थी तो कई उनके नाम से कांपते थे।                                                                                                                                                                                                               आज फुलन देवी के जन्मदिन के मौके पर जानते है उनकी वो कहानी जिसने कईयो के रातो की नींद उडा दी। फुलन देवी की कहानी शुरू होती है पुरवा गांव से जहां उनका जन्म हुआ था फुलन अपने गांव में अपने माता पिता और बहनों के साथ रहती थी। वहां उनका उंची जातियों के लोग उन्हे हेय द ृष्टि से देखते थे। तथा फुलन जब 11 वर्ष की हुई तो रेप का शिकार हुई और जब 15 वर्ष की हुई तो गैंगरैप का शिकार हुई यह सब होने के बाद फुलन ने डाकु बनने की सोची थी। अतः फुलन देवी इस तरह से डाकु बनी।